Loading

अल्मोड़ा 28 सितम्बर, – जिला प्रशासन द्वारा कोसी नदी पुनर्जनन परियोजना के तहत आगामी 15 अक्टूबर, 2022 को एक दिवसीय कोसी नदी स्वच्छता अभियान की समीक्षा बैठक आज जिलाधिकारी वन्दना की अध्यक्षता में जिला कलैक्ट्रेट सभागार में हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद अन्तर्गत प्रवाहित होने वाली कोसी तथा इसकी सहायक लघु सरिताआंे के पुनर्जनन तथा जल संरक्षण-संवर्धन हेतु कोसी नदी पुनर्जनन अभियान गत चार वर्षो से गतिमान है। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा नगर ही नहीं अपितु नदी के प्रवाह क्षेत्र में बसे ग्रामवासियों की विभिन्न आवश्यकताओं के लिए कोसी नदी ही जल आपूर्ति का मुख्य स्रोत है। जिलाधिकारी ने कहा कि कोसी नदी अल्मोड़ा शहर की लाईफ लाईन है हम सभी लोगों को इस नदी का पानी पीते है इसलिए हमें इस वृहद सफाई अभियान में आगे आना चाहिए।
जिलाधिकारी ने कहा कि आगामी 15 अक्टूबर, 2022 को एक एक दिवसीय कोसी नदी स्वच्छता अभियान चलाया जायेगा। इस अभियान के तहत कोसी नदी के दोनों किनारों के समीप 500 मी0 की परिधि को अभियान के रूप में स्वच्छ किया जायेगा तथा इस अभियान के क्रियान्वयन हेतु क्वारब से कांटली के ग्राम पंचायत तक के क्षेत्र को 31 जोन एवं 62 सैक्टर में विभाजित किया गया है। उन्होंने कहा कि इस वृहद स्वच्छता अभियान में स्वयं सहायता समूह सम्बन्धित ग्राम के ग्राम प्रधान, सरपंच, स्कूल बच्चों, पैरा मिलेट्री जिसमें विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों के जन सहभागिता से इस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया जायेगा।
उन्होंने निर्देश दिये कि जिन सैक्ट्ररों में अधिक कूड़ा मिलने की सम्भावना है उन क्षेत्रों में मैन पावर को बढ़ा दिया जाय। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि इस दौरान मॉस्क, ग्लब्स, फर्स्टएड किट का वितरण समये से कर लिया जाय। उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका/अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को निर्देश दिये कि इस दौरान कूड़ा निस्तारण के लिये वाहनों की व्यवस्था कर ली जाय। जिलाधिकारी ने डीपीआरओ को निर्देश दिये कि इस अभियान के दौरान जितनी भी ग्राम पंचायतें आ रही है उन ग्राम पंचायतों के जन प्रतिनिधियों से तत्काल बैठक कर ली जाय। उन्होंने इस कार्य में नामित सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि 05 अक्टूबर तक अपनी सभी तैयारियॉ पूर्ण कर ली जाय। उन्होंने कहा कि नॉन बायोडिग्रेडबल वेस्ट व बायोडिग्रेडबल वेस्ट को अलग-अलग रखने की व्यवस्था की जाय।
इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी अंशुल सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी महातिम यादव, संयुक्त मजिस्ट्रेट रानीखेत जय किशन, मुख्य विकास अधिकारी के0एन0 तिवारी, परियोजना निदेशक चन्द्रा फर्त्याल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। इस दौरान कोसी सैल समन्वयक शिवेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा पावर पांइट के माध्यम से कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी दी।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.