Loading

लोकसभा सदस्य , वरुण गांधी देश के पहले सांसद बन गये है। जिन्होंने बतौर संसद सदस्य पैंशन छोड़ने का ऐलान किया है । उन्होंने कहा है कि यदि अल्पावधि के लिये भर्ती किये जा रहे अग्निवीर पैन्शन के हकदार नही है, तो मैं भी खुद की पैन्शन छोड़ रहा हूं, वरुण गांधी का यह ट्वीट ट्वीटर व सोसियल मीड़िया पर तेजी से वाईरल हो रहा है। वरुण गांधी ने जनप्रतिनिधियों से सवाल किया है ।क्या हम विधायक / सांसद अपनी पेंशन छोडकर यह सुनिश्चित नही कर सकतें कि अग्निवीरों को पेन्शन मिले ।

दरअसल वरुण गांधी अपनी पेन्शन पहली बार नही छोड़ रहे, वे पिछले दस वर्षों से पेन्शन के रूप मे मिल रहे पैसो से गरीबों जरूरत मन्दों की मदद करते आ रहे है। वे इस बारे मे प्रस्ताव भी कर चुके है कि जनप्रतिनिधि बनना कोई रोजगार नही यह एक समाजसेवा है । एक सांसद को देश मे एक वर्ष में अनुमानित तौर पर कम से कम प्रतिवर्ष 75लाख रुपये मिलते है । जिसमे बृद्धि संम्भव है ।
सांसद वरुण गांधी अग्निवीरों के सवालों को लेकर पेंन्शन छोड़ने वाले पहले सांसद बन गये है ।यद्यपि देश में अग्निवीरों के सवाल पर कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रब्यापी बिरोध दर्ज किया है । किन्तु देश के किसी भी नेता ने पेन्शन छोड़ने का ऐलान नही किया है ।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.