133 total views

खेल मन्त्रालय ने 2022 के लिये अर्जुन पुरुष्कारों की घोषणा कर दी है इस बार उत्तराखण्ड़ के उद्दीयमान खिलाड़ी अल्मोड़ा निवासी लक्ष्य सेन कोबैडमैन्टिन में शानदार प्रदर्शन के लिये अर्जुन पुरुष्कार दिया जा रहा है इसके अलावा अर्जुन पुरस्कारों की लिस्ट में सीमा पुनिया (एथलेटिक्स), एल्डोस पॉल (एथलेटिक्स), अविनाश मुकुंद साबले (एथलेटिक्स), एचएस प्रणय (बैडमिंटन), अमित (मुक्केबाजी), निकहत जरीन ( बॉक्सिंग), भक्ति प्रदीप कुलकर्णी (शतरंज), आर प्रज्ञानानंद (शतरंज), दीप ग्रेस एक्का (हॉकी), सुशीला देवी (जूडो), साक्षी कुमारी (कबड्डी )के लिये पुरुष्कार दिया जायेगा ।
अर्जुन पुरस्कार खिलाड़ियों को दिये जाने वाला एक पुरस्कार है, जो भारत सरकार द्वारा खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये दिया जाता है। इस पुरस्कार का प्रारम्भ 1961 में हुआ था। पुरस्कार स्वरूप पंद्रह लाख रुपये की राशि, अर्जुन की कांस्य प्रतिमा और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाता है खेल मे पहला अर्जुन पुरुष्कार सलीम दुर्रानी के नाम है सलीम दुर्रानी ने 13 वर्ष के अंतरराष्ट्रीय कैरियर में कुल 29 टेस्ट खेले।
अर्जुन पुरस्कार 1961 में स्थापित किया गया था। सलीम दुर्रानी को क्रिकेट के खेल में पहला अर्जुन पुरस्कार मिला।
1961 में स्थापित यह पुरस्कार में 500,000 रुपये का नकद पुरस्कार, अर्जुन की एक कांस्य प्रतिमा और एक स्क्रॉल शामिल है। यह पुरुष्कार पाने के लिये एक खिलाड़ी को चार साल के लिए लगातार उत्कृष्ट प्रदर्शन करना चाहिए और साथ ही नेतृत्व, खेल भावना और अनुशासन की भावना का गुण दिखाना चाहिए
इस समय भारत में राष्ट्रीय स्तर पर छह खेल पुरस्कार हैं मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार। अर्जुन पुरस्कार, मेजर ध्यानचंद पुरस्कार, द्रोणाचार्य पुरस्कार, मौलाना अबुल कलाम आजाद ट्रॉफी और राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार 2021जेपी नौटियाल को द्रोणाचार्य, वंदना को अर्जुन, कर्नल अमित बिष्ट और शीतल को तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने प्रदान किया ।
उत्तराखण्ड़ के पहलाअर्जुन पुरुष्कार हरिदत्त कापड़ी को मिला उन्होंने सन् 1969 से 1979 तक अर्न्तराष्ट्रीय स्तर पर बास्केटबाल खेलातब यह उत्तर प्रदेश रा भाग था सन 1969 में भारत सरकार ने उन्हें अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.