65 total views

उत्तराखणड बनने के बाद विकास के बजाय राज मे लूट ज्यादा हो रही है , ललित उप्रेती ने कहा कि आजादी का मतलब कानूनों की सरलता नही बल्कि जटिलता होती जा रही है उत्तराखण्ड का विकास सही दिशा मे नही हो रहा , अमृतकाल मे शिक्षा चिकित्सा पर चर्चा नही है जी -20 के बहुत से सम्मेलन हो रहे है । इसमे चर्चा है कि पूंजीपति अपनी पूंजी से संसाधनो का दोहन कैसे करे , 100प्रतिनिधियो की बैठक के लिये 100करोड़ खर्च हुवे , जबकि रामनगर मे केवल 36 ही प्रतिनिधि आये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.