Loading

अल्मोड़ा 5 जनवरी को कटारमल में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया जा रहा है ।

यह कार्यक्रम आयुष मंत्रालय ने योग विज्ञान विभाग, सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय को सौंपा है ।आयुष मंत्रालय द्वारा मकर संक्रांति पर सम्पूर्ण भारत के सूर्य मंदिरों में आयोजित हो रहे सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम के तहत यह कार्यक्रम आयोजित हो रहा है कार्यक्रम को भव्य बनाने हेतु विभाग, के प्रशिक्षुओं ने पूर्वाभ्यास किया आयुष मंत्रालय, भारत सरकार, मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के तत्वाधान में योग विज्ञान विभाग सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा द्वारा 5 जनवरी को अल्मोड़ा के विश्वप्रसिद्ध सूर्य मंदिर कटारमल में वृहद रूप से सामूहिक सूर्य नमस्कार का अभ्यास किया जाएगा। इस सम्बन्ध में आज योग विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें कार्यक्रम को भव्य बनाने के लिए चर्चा की गई तथा कार्यक्रम के सफल संचालन हेतु विभिन्न समितियों का गठन किया गया व उन्हें जिम्मेदारी दी गयी। इसके पूर्व योग विभाग के प्रशिक्षकों द्वारा सूर्य नमस्कार का पूर्वाभ्यास भी किया गया। विभागाध्यक्ष डॉ नवीन भट्ट ने बताया कि आयुष मंत्रालय द्वारा इस वर्ष मकर संक्रांति के अवसर पर 1 से 14 जनवरी के मध्य देश भर के सूर्य मंदिर में सूर्य नमस्कार का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 1 जनवरी से गुजरात सरकार द्वारा 108 स्थानों में वृहद सूर्य नमस्कार कार्यक्रम कर इसका शुभारंभ किया जा चुका है। 4 जनवरी को यह मध्य प्रदेश 5 जनवरी को उत्तराखंड के अल्मोड़ा जनपद में स्थित कटारमल में, 6 जनवरी को असम में तथा 7 जनवरी को ओडिशा में यह कार्यक्रम होना है। आयुष मंत्रालय द्वारा उत्तराखंड में कार्यक्रम को अल्मोड़ा के सूर्य मंदिर कटारमल में कराने का जिम्मा योग विज्ञान विभाग सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा को सौंपा है।कल यानि 05 जनवरी को अल्मोड़ा के कटारमल सूर्य मंदिर में भव्य रूप में सूर्य नमस्कार का आयोजन होगा जिसमें लगभग 200 से अधिक प्रतिभागियों के प्रतिभाग करने की संभावना है उन्होंने आमजनमानस से भी अधिक से अधिक संख्या में कटारमल पहुँच कर सूर्य नमस्कार करने की अपील की है। इस अवसर पर योग विज्ञान विभाग के शिक्षक लल्लन सिंह, गिरीश अधिकारी, रजनीश जोशी, सहित योग विभाग के समस्त छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.