30 total views

अल्मोड़ा :16 वी  कुमाऊं रेजीमेंट के जवान कमल सिंह भाकुनी ने देश की सेवा मे अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है,  उनके निधन पर परिदनों व स्थानीय लोगों मे शोक की लहर है ।भाकुनी अपने घर से 25 दिन पहले ही वापस ड्यूटी पर गए थे | कमल वर्तमान में मणिपुर में तैनात थे।  मीड़िया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जवान के सिर पर गोली लगने से मृत्यु हई है। आज शहीद कमल सिंह भाकुनी का पार्थिक शरीर उनके घर चनौदा-बूंगा, सोमेश्वर पहुंचेगा। 24 साल के बेटे की शहादत के बाद परिवार ने सुधबुध खो दी है, गांव में कोहराम मचा है।

कमल सिंह भाकुनी चार साल पहले 21 साल की उम्र में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। बताया जा रहा है कि शहीद कमल के पिता चंदन सिंह भाकुनी गांव में ही खेती-बाड़ी करते हैं, जबकि माता दीपा भाकुनी गृहणी हैं। उनका बड़ा भाई प्रदीप भाकुनी भी भारतीय सेना में है। शहीद का पार्थिव शरीर आज सोमेश्वर लाया जायेगा। गोली कैसे लगी, इसकी स्पष्ट जानकारी किसी को नहीं है। जवान के शहीद होने की खबर से पूरे गांव में शोक की लहर है।कमल भाकुनी 16 कुमाऊं रेजीमेंट के जवान थे और आजकल मणिपुर में तैनात थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.