50 total views


अल्मोड़ा नगर मे मेघनीथ बध के साथ ही आज रावण बध व दहन भी हो जायेगा इसी रे साथ ही रामलीला मंचन का क्रम भी समाप्त हो जायेगा यद्यपि कल राजतिलक होगा , इस वर्ष मूड़ा से बेहतक तालमेल के कारण सबसे अधिक सुर्खियो मे कर्नाटक खोला रामलीला रही -रामलीला समिति कर्नाटक खोला अल्मोडा की नवम दिवस की रामलीला में अतिकाय वध,अंगद-रावण संवाद,रावण-मन्दोदरी संवाद,मेघनाद-लक्ष्मण संवाद,लक्ष्मण शक्ति, कालनेमी प्रसंग,हनुमान द्वारा द्रोणांचल पर्वत लाया जाना,सुषेन बैद्य प्रसंग,लक्ष्मण का पुर्नर्जिवित होना आदि मुख्य आकर्षण रहे।देर रात्रि तक दर्शक दीर्धा में उपस्थित दर्शकों ने लीला का आनन्द लिया व कलाकारों का उत्साहवर्धन किया साथ ही देश-विदेश में लोगों ने अपने घर पर आन-लाईन लीला का आनन्द लिया तथा अपने संदेशों के माध्यम से रामलीला मंचन की सराहना की। सर्वप्रथम अष्टम दिवस की रामलीला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि अरुण सोनी अधिशासी अभियंता तथा विशिष्ट अतिथि डा.लक्ष्मण ह्रदय रोग विशेषज्ञ द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।अतिथियों ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमें पुरूषोत्तम भगवान राम के जीवन चरित्र व आदर्शो से प्रेरित होकर तद्नुरूप कार्य करना चाहिये एवं कुसंगति तथा भटकाव के मार्ग में न जाकर समाज में अपनी एक आदर्श छवि स्थापित करते हुये समाज हित में कार्य करने चाहिये।नवम दिवस की लीला में राम की कलाकार रश्मि काण्डपाल, लक्ष्मण-दीक्षा कनार्टक,सीता-कोमल जोशी, हनुमान -अनिल रावत,रावण-पूर्व मंत्री बिट्टू कर्नाटक,मन्दोदरी-नेहा जोशी, अतिकाय-अनिल जोशी, कालनेमी -अखिलेश थापा,विभीषण-अभिषेक नेगी,अंगद-दीपक कर्नाटक,मेघनाद-डा.करन कर्नाटक,सुषेन बैद्य-कमल जोशी आदि ने जीवन्त अभिनय किया।अंगद-रावण संवाद , लक्ष्मण -मेघनाद संवाद,लक्ष्मण शक्ति अष्टम दिवस की रामलीला के मुख्य आकर्षण रहे। विशेषकर अंगद-रावण,लक्ष्मण-मेघनाद के पात्रों के जीवन्त अभिनय एवं संवादों ने सभी दर्शकों को मन्त्रमुग्ध कर दिया।इस अवसर पर देवेन्द्र कर्नाटक,हेम जोशी,गौरव काण्डपाल,भूपेंद्र बिष्ट , प्रमोद तिवारी,मनोज जोशी, योगेश जोशी,देवेन्द्र जनौटी , एस.एस.कपकोटी, मनीष तिवारी,त्रिभुवन अधिकारी ,भुबन चन्द्र पाण्डे , भुबन चन्द्र कर्नाटक, जगदीश चन्द्र तिवारी , सुरेश कुमार, कमलेश कर्नाटक,रजनीश कर्नाटक,कमल पालीवाल, प्रयाग दत्त जोशी,रवि रौतेला , जया पाण्डे,विद्या कर्नाटक, सीमा कर्नाटक ,बन्दना जोशी, आशा मेहता , कविता पाण्डे, कंचन पाण्डे,रेखा जोशी ,सुनीता बगडवाल ,पूरन चन्द्र तिवारी,नारायण दत्त तिवारी, सन्तोष जोशी,तनोज कर्नाटक, दिनेश मठपाल, दयाकृष्ण जोशी,प्रकाश मेहता , ललित बिष्ट, कपिल नयाल, कौशल किशोर पाण्डे,आयुष मेहता , सुनीता पालीवाल ,सीता रावत आदि सहित भारी संख्या में दर्शक उपस्थित रहे ।कार्यक्रम का संचालन गीतांजलि पाण्डे द्वारा किया गया।,

वही नन्दा देवी रामलीला को भी दर्शकों की ओर से काफी सराहना मिली ,। वही हुक्का क्लब की रामलीला मे शिवचरण पाण्ड़े जी की कमी दर्शकों को इस वर्ष खूब अखरी , ।बार -बार दर्शको को उन्हें याद करते हुवे पाया गया , धारानौला रामलीला औसत दर्जे की रही , तो राजपुरा की रामलीला मे भी मुहल्ले की काफी भीड़ जुटी ,।सरकार की आली , मे भी रामलीला का मंचन हुवा , कई प्रतिष्छित रामलीलाओं मे पहले जमाने मे बोरा बिछाकर जगह आरक्षित कराई जाती थी , अब कुर्शियों में टिकट लगाकर कुर्शिया आरक्षित की गई , तथा कुर्शियों मे बिना टिकट का पैसा दिये बैठे लोग उठाये भी जाते रहे । पर नन्दा देवी मे कुर्शिया उपलब्ध होने पर कोई भी दर्शक उनंमें बैठ सकता था , कमेटी का यहआचरण दर्शकों को अच्छा लगा ।नेताओं को सभी रामलीलाओं मे काफी सम्मान मिला पर पत्रकारों मे सभी कंमेटियों के अपने -अपने सलेक्टिव पत्रकारो को ही सम्मान दिया गया ,इस बार दानदाताओं की लिस्ट पूर्व की भांति कम पढी गई ,लगता है कि दानदाताओं मे कमी आ ऱही है वही एकमुस्त दान बढ रहा है । लोगों मे रामलीला के प्रति उत्साह मे कमी भी देखी गई ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.