Loading

देहरादून: क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने के नाम पर इन दिनों सोसियल नैटवर्क साईट पर कई समुह काम कर रहे है इनका काम झांसा देकर लोगों को ठगना है ऐसी ही एक घटना मे डिस्पेंसरी रोड निवासी एक पीड़िता के साथ साइबर ठगों ने लाखों रुपए की ठगी कर डाली लाखों रूपयों की ठगी के बाद जब पीड़िता की समझ मे आया कि उसके साथ ठगी हो गई है तब पीड़िता ने थाने मे तहरीर दी पीड़िता की तहरीर के आधार पर साइबर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया है अब इस मामले मे साइबर पुलिस जांच कर रही है देहरादून डिस्पेंसरी रोड निवासी सेजल बेरी ने साइबर पुलिस को शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके पास व्हाट्सएप पर एक मैसेज आया था। मैसेज में क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने की बात कही गई थी। पीड़िता ने क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने पर अच्छा खासा फायदा होने की बात सुनी थी। इससे वो लालच में आ गई।

उसने पुलिस को बताया कि कुछ दिन बाद पीड़िता के पास एक व्यक्ति का फोन आया।फोनकर्ता ने क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने के लिए पीड़िता को कहा। इसके लिए फोनकर्ता ने पीड़िता को एक वेबसाइट का लिंक भेजा।पीड़िता फोनकर्ता के झांसे में आ गई। उसने कुछ रुपए जमा कर कथित क्रिप्टो करेंसी खरीद ली।पीड़िता को काफी दिनों तक इस वेबसाइट पर लाभ दिखता रहा करोड़ों रुपए का लाभ देखने के बाद पीड़िता ने निर्णय किया कि यह वो रकम अपने खाते में ट्रांसफर करेगी।लेकिन जब पीड़िता ने रकम अपने खाते में ट्रांसफर करनी चाही तो रुपए ट्रांसफर नहीं हुए।उसी दौरान पीड़िता के पास फोनकर्ता का फोन आया कि वह रुपए तभी ट्रांसफर होंगे, जब टैक्स चुकाया जाएगा।उस फ्रॉड ने समझाया कि यह रकम भारतीय करेंसी में जमा होगी।पीड़िता टैक्स चुकाने के लिए तैयार हो गई. धीरे-धीरे करते पीड़िता ने कुल 13 लाख 80 हजार रुपए जमा करा दिए।लेकिन उसके बाद भी रकम ट्रांसफर नहीं हुई तो पीड़िता ने फोन किया. अब फोनकर्ता ने फोन उठाने बंद कर दिए। तब जाकर देहरादून निवासी पीड़िता को समझ में आ गया कि वो साइबर ठगी का शिकार हो चुकी है।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.