38 total views

देश भर के ट्रान्सपोर्टर व परिवहन से जुड़े करोड़ो चालको के राष्ट्रब्यापी हडताल के कारण आज यात्रियों की बड़ी फजीहत हुई ,रोडवेज के चालको ने परिबहन के नये कानूनों को देखते हुवे राष्ट्रब्यापी हडताल के तहत पहिये जाम कर दिये आने वाले दिनों मे यह समस्या और बढने की संम्भावना है ,। चालकों का कहना है कि किसी भी दुर्घटना के लिये हमेशा चालक जिम्मेदार नही होते , कभी -कभी पीड़ित भी जिम्मेदार होते है । चालकों का यह भी कहना है कि कभी – कभी मशीनी खराबी के कारण भी दुर्घटनाये हो जाती है ।
इस सम्बन्ध में लोगों का कहना है कि यह सच है कि कि हमेशा चालक की गल्ती नही होती ,पर बहुत से चालक नियमों का पालन नही करते जिसके कारण दुर्घटनाये होती है ,परन्तु चालक अमानवीय ब्यवहार करते हुवे पीड़ित को अस्पताल तक नही ले जाते , ।जिसके कारण पीड़ित मानसिक शारिरिक व आर्थिक वेदना से गुजरते है , परिवार परेशान हो जाते है । इस कानून को जनता का समर्थन भी मिल रहा है ।
आज पहिये जाम होने से यात्रियों की बड़ी फजीहत हुई , लोग बस स्टेशनों मे पहुचें किन्तु गाड़िया नही आई , अन्तत: यात्री निराश होकर अपने घरों को लौट गये ।

अल्मोड़ा देश भर के ट्रान्सपोर्टर व परिवहन से जुड़े करोड़ो चालको के राष्ट्रब्यापी हडताल के कारण आज यात्रियों की बड़ी फजीहत हुई , हडताल कल भी जारी रहेगी ।रोडवेज के चालको ने परिवहन के नये कानूनों को देखते हुवे राष्ट्रब्यापी हडताल के तहत पहिये जाम कर दिये आने वाले दिनों मे यह समस्या और बढने की संम्भावना है ,। चालकों का कहना है कि किसी भी दुर्घटना के लिये हमेशा चालक जिम्मेदार नही होते , कभी -कभी पीड़ित भी जिम्मेदार होते है । चालकों का यह भी कहना है कि कभी – कभी मशीनी खराबी के कारण भी दुर्घटनाये हो जाती है ।यह हडताल तीन जनवरी को और ब्यापक स्वरूप लेगी इसके लिये यूनियनों ने आह्वान किया है ।
इस सम्बन्ध में लोगों का कहना है कि यह सच है कि कि हमेशा चालक की गल्ती नही होती ,पर बहुत से चालक नियमों का पालन नही करते जिसके कारण दुर्घटनाये होती है ,परन्तु चालक अमानवीय ब्यवहार करते हुवे पीड़ित को अस्पताल तक नही ले जाते , ।जिसके कारण पीड़ित मानसिक शारिरिक व आर्थिक वेदना से गुजरते है , परिवार परेशान हो जाते है । इस कानून को जनता का समर्थन भी मिल रहा है ।
आज पहिये जाम होने से यात्रियों की बड़ी फजीहत हुई , लोग बस स्टेशनों मे पहुचें किन्तु गाड़िया नही आई , अन्तत: यात्री निराश होकर अपने घरों को लौट गये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.