69 total views

अल्मोड़ा, 19 मई, 2023 एक दिवसीय विज्ञान प्रोत्साहन कार्यक्रम का आयोजन आज उदय शंकर नाट्य अकादमी, फलसीमा में किया गया। इस विज्ञान प्रोत्साहन कार्यक्रम में राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा 9 से 12 तक अध्ययनरत् 670 छात्र-छात्राओं एवं शिक्षको द्वारा प्रतिभाग किया गया। इस अवसर पर प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वीडियो के माध्यम से छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए सभी उपस्थित लोगों का स्वागत किया और कहा कि यह एक विशेष कार्यक्रम है ।

राज्य में डिजिटल वॉलटिंयर, साईबर वॉलटिंयर और टैक्नीलॉजी वॉलटिंयर चैम्पियन तैयार करने के लिए यूकास्ट (उत्तराखण्ड स्टैट काउसिंल फार सांइस टैक्नोलाजी) के द्वारा जो यह मुहिम शुरू की गयी है उसे देहरादून में ग्रामीण विज्ञान सम्मेलन के दौरान प्रारम्भ किया गया था यह कार्यक्रम उसी श्रृंखला का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में देश के शीर्ष संस्थानों के विशेषज्ञ, टैक्नोलॉजी के ज्ञाता इस कार्यक्रम के माध्यम से छात्र-छात्राओं को आधुनिक टैक्नोलॉजी जिसमें आर्टीफिशियल इन्टेलीजेन्सी, रोबोटिक्स, ड्रोन, रिमोट सेंसिग, ब्लॉक चैन, साईबर सिक्योरिटी के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम जिला प्रशासन व यूकॉस्ट के माध्यम से संयुक्त रूप से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी युवा पीढ़ी नई टैक्नोलाजी को समझें और जाने जिससे आजीविका व आर्थिकी को बढ़ाने के लिए यह बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि वही समाज वही देश आगे बढ़ता है जिसकी सांइस एवं टैक्नोलाजी उन्नत होती है इसी उद्देश्य से यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है।


इस अवसर पर सांसद अजय टम्टा ने वीडियो के माध्यम से कहा कि जिला प्रशासन, यूकॉस्ट व शिक्षा विभाग के माध्यम से एक दिवसीय विज्ञान प्रोत्साहन कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह जिला प्रशासन के दूरदर्शी सोच को प्रदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा अपनी एक अलग पहचान रखता है। इस नगर से अनेक वैज्ञानिक, इंजीनियर, चिकित्सक, विज्ञान विशेषज्ञ, प्रशासनिक अधिकारी देश-विदेश में अपनी सेवायें दे रहे है और उत्तराखण्ड का नाम पूरे देश में रोशन कर रहे है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं के विषय विशेषज्ञ अनेक जानकारी प्रदान करेंगे।
इस अवसर पर वर्चुअल माध्यम से महानिदेशक यूकास्ट दुर्गेश पंत ने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हमें आगे बढ़ना है। उन्होंने कहा कि हमें डिजिटल क्षेत्र में उन्नत राष्ट्र बनाने के लिए आगे बढ़ना होगा। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजित कार्यक्रमों को भविष्य में भी जारी रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा हमेशा असाधारण जनपद रहा है और यह कार्यक्रम अल्मोड़ा को एक मिशन के तौर पर तकनीकी क्षेत्र में आगे ले जायेगा।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अंशुल सिंह ने कहा कि हमें नई टैक्नोलाजी का बेहतर प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सभी को अपने लक्ष्य हमेशा ऊचे रखने चाहिये। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने अनेक छात्र-छात्राओं से संवाद किया और टैक्नोजाली के बारे में जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि हमें हमेशा विज्ञान को लेकर जिज्ञासा बनायी रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाला समय तकनीकी क्षेत्र रोजगारपरक होगा। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने छात्र-छात्राओं द्वारा लगाये गये माडलों का निरीक्षण किया और उनके इस सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए खुशी जाहिर की और उन्हें उज्जल भविष्य की शुभकामना दी।
इस कार्यक्रम में विषय विशेषज्ञों द्वारा उपस्थित छात्र-छात्राओं एवं शिक्षकों को आर्टीफिशियल इन्टेलीजेन्सी, रोबोटिक्स, ड्रोन, रिमोट सेंसिग, ब्लॉक चैन, साईबर सिक्योरिटी, क्लाउड कंम्यूटिंग, क्वांटम कंम्यूटर, डाटा एनालिसस, मशीनी भाषा, सोशल मीडिया में फैक मैसेज व काल आदि विषयों के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी। इस दौरान विज्ञान विषय के छात्र-छात्राओं द्वारा माडल तकनीक के स्टॉल लगाये गये और लोगों को इन माडलों के माध्यम से विज्ञान एवं तकनीकी का प्रयोग किस तरह के किया जा सकता है कि जानकारी दी।
इस अवसर पर विषय विशेषज्ञ प्रो0 संजय कुमार, प्रो0 सुनील कुमार, प्रो0 कंचन पाण्डे, जयश्री सनवाल, डा0 सुरेश भारद्वाज, प्रो0 मायंक अग्रवाल, डा0 मनी मधुकरन, डा0 जितेन्द्र पाण्डे, प्रहलाद अधिकारी, सुभाष नेगी, सिद्वार्थ माधव, उप जिलाधिकारी गौपाल सिंह चौहान, जिला विकास अधिकारी के0एन0 तिवारी, मुख्य शिक्षाधिकारी हेमलता भट्ट सहित अनेक शिक्षक-शिक्षिकायें सहित अन्य लोग मौजूद रहे। इस कार्यक्रम का संचालन यूकॉस्ट देहरादून द्वारा किया गया तथा मंच का संचालन विनोद राठौर ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.