95 total views

पौढी आखिरकार भारी जनविरोध के चलते यशपाल बेनाम ने अपनी बेटी की शादी स्थगित कर दी , यशपाल बेनाम की पुत्री की शादी एक मुस्लिम युवक से हो रही थी सामान्यत: यह कोई नई बात नही थी किन्तु यशपाल बेनाम भा ज पा के नेता है , हिन्दुत्व , लभ जेहाद , भारत , पाकिस्तान कुछ ऐसे मुद्दे है जिसके आधार पर बी जे पी सत्ता में आती रही है फिर यदि उसी पार्टी का एक नेता यदि खुलेआम अन्तरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन दे तो विवाद तो होना ही था ।
यशपाल रावत यूपी के अमेठी निवासी एक मुश्लिम युवक से अपनी बेटी की शादी कर रहे थे वकायदा निमन्त्रण कार्ड छापा गया । यह सोसियल मीड़िया मे वाईरल हुवा लोगों ने इस पर तरह -तरह के कमैन्ट तर रहे थे , यशपाल रावत एक बार विधायक तीन बार नगर पालिका अध्यक्ष रह तुके है वर्तमान में वह तीसरी बार भा ज पा के टिकट पर पालिका अध्यक्ष है । इस निमन्त्रण कार्ड से भा ज पा मे भी बेचैनी थी इसीलिये भाजपा नें पहले ही यशपाल बेनाम से दुरिया बना दी थीं । इस विवाह का हिन्दुवादी संगठन बिरोध कर रहे थे उन्होंने इस अन्तरधार्मिक विवाह पर अदालत जाने तथा प्राथमिकी दर्ज करने की धमकी दी तथा विवाह को गैर कानूनी कहा जा रहा था , यह मांग की जा रही थी कि दोनो मे से कोई एक अपना धर्म परिवर्तन करा ले उसके बाद विवाह करें , । तब विवाह विधिसम्मत माना जा सकता है , हिन्दुओं मे विवाह एक संस्कार है तो मुस्लिमों मे कौनटैक्ट इस विवाह को रोकने के लिये आज विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता पालिकाध्यक्ष के कार्यालय जा पहुंचे । जनता और हिंदूवादी संगठनों के दवाब के बाद भाजपा नेता यशपाल बेनाम ने शादीको स्थगित किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.