23 total views

हल्द्वानी के अल्पसंख्यक बहुल इलाके के बीचों बीच सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के मद्देनजर गौशाला निर्माण पर रोक लगाने और उसके स्थान पर अन्य कोई भी सार्वजनिक उपयोग का स्थल बनाने की मांग के संबंध में कुमाऊं कमिश्नर और जिलाधिकारी नैनीताल को उपजिलाधिकारी हल्द्वानी के माध्यम से विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों द्वारा ज्ञापन भेजा गया।

ज्ञापन में कहा गया कि हल्द्वानी शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान में बहुत सी नजूल भूमि नगर निगम और हल्द्वानी नगर प्रशासन द्वारा अधिग्रहीत की गई है। इसी में से एक भू खण्ड जो जवाहर नगर, वार्ड नंबर 14 में है को अधिग्रहीत कर उसमें निराश्रित आवारा गोवंश के लिए गौशाला निर्माण कराया जा रहा है। गौशाला निर्माण से किसी का कोई विरोध नहीं है। निराश्रित गोवंश के लिए आश्रय स्थल बनाना मनुष्य और पशु सभी के हित में है। लेकिन जिस भू खण्ड पर गौशाला निर्माण कार्य किया जा रहा है उसके चारों ओर घनी अल्पसंख्यक आबादी निवास करती है। गौशाला निर्माण से कोई विरोध न होने के बावजूद यहां के लोग बेहद डरे हुए हैं और कभी भी किसी सांप्रदायिक तनाव की आशंका से ग्रस्त हैं। उन लोगों की आशंका निर्मूल भी नहीं है क्योंकि देश और राज्य के कई हिस्सों में गौवंश के कारण तनाव और हिंसा की घटनाओं में हाल के समय में काफी वृद्धि हुई है। और जिस जगह गौशाला निर्माण कार्य किया जा रहा है वहां की गलियां भी काफी संकरी हैं। जहां गोवंश को लाने के परिवहन की समस्या रहेगी। साथ ही घने और संकरे स्थान व घनी आबादी के कारण प्रदूषण और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के बढ़ने का गम्भीर खतरा है।

प्रतिनिधिमंडल ने मांग उठाई कि हल्द्वानी के अल्पसंख्यक बहुल इलाके के बीचों बीच सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए गौशाला निर्माण पर रोक लगाकर उसे पहले से चयनित निर्धारित स्थान पर बनाया जाय और उक्त स्थल पर अन्य कोई भी सार्वजनिक उपयोग का स्थल बनवाया जाय।

इस मामले पर उप जिलाधिकारी हल्द्वानी ने संज्ञान लेते हुए कार्यवाही का आश्वासन दिया।

ज्ञापन देने वालों में सद्भावना समिति के तत्वावधान में उत्तराखंड सर्वोदय मंडल अध्यक्ष इस्लाम हुसैन, भाकपा माले जिला सचिव डा कैलाश पाण्डेय, अंबेडकर मिशन के अध्यक्ष जी आर टम्टा, सदभावना समिति के अखलाख खान, बिंदुखत्ता संघर्ष समिति के प्रभात पाल, मोइन खान आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.