25 total views

अल्मोड़ा पानी बोओ पानी उगाओ अभियान के अंतर्गत ग्राम बेढुली द्वाराहाट में महिला एकता परिषद की बैठक आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता श्रीमती हेमलता अध्यक्ष महिला मंगल दल बेढुली द्वारा की गई बैठक में घटते जल स्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए महिलाओं ने कहा पलायन के कारण बंजर हो रहे खेतों के कारण जल स्रोत सूख रहे । पलायन के कारण घास व सुखी लकड़ी की आवश्यकता कम होती जा रही है।।, जिसके कारण जंगलों में आग की घटनाएं बढ़ती जा रही है रिस्कन नदी को बचाने हेतु प्रत्येक गांव में खेतों में पानी बोओ पानी उगाओ अभियान के अंतर्गत हर खेत में या तो हल जोतना होगा या खाव खोदने पर जोर दिया जाना चाहिए जिससे भविष्य के लिए पानी को बढ़ाया जा सके और रिस्कन नदी के जल स्तर को भी बढ़ाया जा सके। यदि रिस्क नदी बचेगी तभी गंगा जैसी महा नदियां भी बच पाएंगी
महिलाओं ने बढ़ते बाघ व बंदरों से बढ़ रहे पलायन पर चिंता व्यक्त की उन्होंने कहा कि दिन में भी घास काटना मुश्किल हो गया है क्योंकि बाघ व तेंदुआ महिलाओं पर आक्रमण कर दे रहा है कई मवेशियों को उसने मार दिया है बाइक वालों पर भी वह आक्रमण कर रहा है इस प्रकार गांव में रहना बहुत मुश्किल हो गया है सरकार द्वारा कोई ठोस नीति जंगली जानवरों की बढ़ती संख्या को रोकने हेतु नहीं बनाई जा रही है तय किया गया कि महिला एकता परिषद की महासचिव मधुबाला कांडपाल के नेतृत्व में उप जिला अधिकारी द्वाराहाट के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड सरकार को बाघ सूअर व बंदरों की बढ़ती संख्या को रोकने हेतु ठोस नीति बनाने हेतु ज्ञापन दिया जाएगा साथ ही शीघ्र ग्राम बेढुली में महिला एकता परिषद का सम्मेलन इन्हीं मुद्दों पर आयोजित किया जाएगा बैठक में भावना देवी लता देवी मुन्नी देवी दीपा देवी किरण एम्बुली देवी सावित्री देवी पूजा देवी हीरा देवी भगवती देवी पुष्पा देवी पार्वती देवी आशा तारा उमा व बेढुली की ग्राम प्रधान सीनू आर्य द्वारा प्रतिभा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.