Loading

अल्मोड़ा फलसीमा निवासी आरती आर्या के नवजात शिशु की मौत पर परिजनों द्वारा की गई शिकायत का संज्ञान लेते हुये प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने इसे दुःखद घटना बताया है। मीडिया को जारी बयान में मंत्री धनलिंह रावत ने कहा कि प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए जिलाधिकारी व विभागीय स्तर पर अलग-अलग जांच कराई जायेगी। जांच में जो भी दोषी पाया जायेगा उसके विरूद्ध सख्त कार्रवाई अमल में लाई जायेगी।धन सिंह रावत ने कहा कि इस तरह की घटना को कतई भी बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने जिला प्रशासन व स्वास्थ्य महानिदेशक को एक सप्ताह के भीतर विस्तृत जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिये गये हैं। रिपोर्ट के आधार पर लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी, ताकि भविष्य में ऐसी घटना दोबारा न हो तथा अस्पताल आने वाले किसी भी मरीज के उपचार में लापरवाही न हो सके।


फलसीमा गांव निवासी आरती आर्या पत्नी अंकित आर्या को बीते 6 मई यानि शनिवार सुबह प्रसव पीड़ा होने पर परिजन टैक्सी बुक कर उसे अस्पताल ला रहे थे। एनटीडी के पास पहुंचने पर उसने टैक्सी में ही शिशु को जन्म दे दिया। इसके बाद परिजन जच्चा बच्चा को लेकर महिला अस्पताल पहुंचे।परिजनों के मुताबिक अस्पताल प्रशासन ने नवजात का वजन कम होने और प्रीमेच्योर होने पर उसे बेस अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। बताया जा रहा है कि नवजात को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। उसे एनआईसीयू की जरूरत थी। परिजन 10 बजे बच्चे को लेकर बेस अस्पताल पहुंचे। एनआईसीयू फुल होने पर वहां से भी डॉक्टर ने नवजात को रेफर कर दिया।

दर असल एक नवजात को उसका वजन कम होने पर सरकारी अस्पताल से हायर सेन्टर के लिये रेफर कर दिया गया , इस नवजात की हायर सेंटर ले जाते समय मौत हो गई इस प्रकरण को प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने परिजनो को सख्त कार्रवाई का भरोसा देते हुए स्वास्थ्य महानिदेशक एवं जिलाधिकारी को प्रकरण की जांच के आदेश दिये है। तथा एक सप्ताह के भीतर जांच करने के निर्देश दिये है ।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.