102 total views

जोशीमठ बचाओं संघर्ष समिति पिछले कई वर्षों से जोशीमठ पर आसन्न खतरों से सरकार को आगाह करती रहीहै । पिछले कुछ महिनों से जब जोशीमठ मे दरारे व पानी के श्रोत उभरने लगे तो जोशीमठ मे भू -धसाव का मामला राष्ट्रीय स्तर पर उछला , देश भर की मीड़िया का ध्यान जोशीमठ की तरफ गया सरकार इसरों की भू धसाव पर आई रिपोर्ट के बाद ज्यादा सतर्क हो गई है , सरकार की तरफ से यह कहा जा रहा है कि भू धसाव व पुनर्वास के मामले को लेकर सरकार ज्यादा संवेदनशील है। सरकार का मानना है कि इस तरह की रिपोर्ट सार्वजनिक होने के बाद जनता में भय ब्याप्त हो रहा है । अत: इस प्रकार की खबरों पर रोक लगनी चाहिये । इसी बीच जोशीमठ बचाओं संघर्ष लमिति के नेता अतुल सती ने कहा है कि वे जनता की आबाज उठाते रहेंगे भलेहि सरकार कोई भी दमनकारी कानून ही क्यों ना लगा दें उन्होने कहा कि जोशीमठ के आपदाग्रस्थ क्षेत्रो का मुवावजे के साथ पुनर्वास जरूरी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.