Loading

अल्मोड़ा  सल्ट मे जगदीश हत्याकाण्ड के बिरोध में आज उ प पा अध्यक्ष पी सी तिवारी के संयोजन मे चुप्पी तोड़ो आँखेखोलो रैली का आयोजन किया गया ।यह रैली चौघानपाटा से निकाली गई। रैली मे मुख्यमन्त्री से चुप्पी तोड़ने आँखे खोलने का आग्रह किया गया । तथा सरकार से मांग की गई कि जगदीश हत्याकाण्ड.में गहन जांच की की जाय ।

इस अवसर पर कुमाँऊ के  उधमसिंह नगर , रामनगर, नैनी ताल हल्द्वानी  अव्मोड़ा के विभिन्न हिस्सों से लोग अल्मोड़ा रैली मे पहुचे आन्दोलनकारी चौघानपाटा मे इकत्र हुवे वहां   पर एक जनसभा का आयोजन किया    जिसमे विभिन्न वक्ताओं ने सभा को संम्बोधित किया   । रैली के विभिन्न पहलुओं पर बात करते हुवे  संजोजक पी सी तिवारी  कहा  कि एक सितम्बर के जगदीश चन्द्र की इसलिये हत्या हो गई कि उसने अन्तर्जातीय विवाह किया प्रकरण मे पटवारी ,के साथ ही जिला प्रशासन को भी सुचित किया गया पर जगदीश चन्द्र को कोई सुरक्षा नही दी गई। उसकी हत्या हो गई यही अंकिता के साथ भी हुवा ।

प्रकरण मे लम्बा समय बीत जाने के बाद भी ना तो सी एम ने चुप्पी तोड़ी ना ही स्थानीय सांसद व बिधायकों ने , पी सी तिवारी ने कहा कि सत्ता में बारी – बारी से आ रहे सत्ता की पार्टियों ने उत्तराखण्ड मे जूुगलबन्दी व मिलीभगत से लूट मचा रखी है नौकरियो मे भ्रष्टाचार जगजाहिर है । जातिवादी ताकतों ने समाज के तानेबाने को खराब कर दिया है , सभा को उ लो वा के वरिष्ट नेता जगत सिंह रौतेला , सहित कई लोगो ने सम्बोधित किया। रैली मे उ लो वा , तराई किसान सभा , कार्लोस , भा क पा माले आदि संगठनों ने भागीदापी की जिसमेवउवो वा के जगत रौतेला , कार्लोस के मुनीष कुमार , उ प पा के प्रभात ध्यानी , ईश्वरी दत्त जोशी , अमिनुर्रहमान , बसन्त खनी , जीवन चन्द्र जे सी , आदि लोगों बिचार ब्यक्त किये रैली को धर्म निरुेक्ष युवा मन्च के विनय किरौला आप के अमित जोशी , ब्यापार मण्डल अध्यक्ष सुशील साह ने अपना समर्थन दिया । इस अवसर पर सैकड़ो की संख्या मे लोग अल्मोड़ा पहुंचे उनके साथ ही बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों ने भी भागीदारी की, कार्यक्रम का संचालन नारायण राम ने किया।

चौघानपाटा से माल रोड होते हुवे रैली लाला बाजार पल्टन बाजार के थाना बाजार होते हुवे फिर नन्दा देवी पहुंची वहां एक जनसभा का आयोजन हुवा रैली में जातिवाद हो वर्वाद , उत्तराखण्ड़ सरकार चुप्पी तोड़ो कान खोलो , जगदीश चन्द्र को न्याय दो ,अंकिता के हत्यारो को फांसी दो आदि नारे लगाये गये ।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.