25 total views

पिछले दिनों अचानक हल्द्वानी मे उमड़े उपद्रवियों के जन शैलाव ने कई लोगों की जिन्दगियों को समाप्त कर दिया , । यह क्यों हुवा रैसे हुवा एक सोचनीय विषय है । , लोगों रे जीवन की हिफाजत करना कानून ब्यवस्था को बनाये रखना पुलिस प्रशासन का काम था , हल्द्वानी दंगों से बेखबर वह रोजहार की तलाश मे था अचानक उपद्रवियों का समुह आया और एक नौजबान की जिन्दगी को लील गया , उपद्रवियों मे उसके माथे पर तीन गोलिया उतार दी युवक बही पर ढेर हो गया , ।

यह युवक विहार से हल्द्वानी पहुचा था 24साल का यह युवक विहार के आरा का रहने वाला था ,श्यादेव सिह पुत्र प्रकाश कुमार की लाश 8फरवरी की रात को बनभूलपुरा के पास रेलवे ट्रक पर पड़ी मिली , उसके सिर पर पीछे से तीन गोलिया मारी गई थी , ।

पाच बहिनों का एकलौता भाई प्रकाश परिवार का काफी ख्याल रखता था , बी ए तक पढा प्रकाश रोजगार की तलाश मे यहा आया था दंगों से उसका कोई लेना देना नही था , आठ फरवरी को उसकी अपने परिजनों से बात भी हुई थी , फिर उसका फौन नही लगा दस फरवरी को हल्द्वानी से उसके घर पुलिस ने सूचना भेजी का प्रकाश दुर्घटना का शिकार है वह सुशीला तिवारी अस्पताल मे भर्ती है , दब परिजन असपताल पहुचे तो उन्हें प्रकाश की लाश मिले , ।

परिजन पूछ रहे उनके बेटे का क्या कलूर था

इस घटना मे मारे गये विकास के घरवा व उसकी मां पूछ रही है कि आखिर उसके बेटे का क्या कसूर था जो उसे होली मार दी गई , वह घर का चिराग था जिसे बुझा दिया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.