88 total views

यू पी मे योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली से अपराधियों मे खौफ पैदा हो रहा है तो आम जनता में राहत भी , पिछले कुछ दिनों रे घचनाक्रम पर नजर डाले तो ंाफिया डान अतीक अहमद के बेटे असद का मुठभेड़ में मारा जाना बड़ी घटना है , यह जायज है या नाजायज यह ब्यक्ति के दृष्टिकोण पर निर्भर करता है। उसके साथ दूसरा घोषित बदमाश गुलाम भी ढेर हो गया। ये दोनों उमेशपाल की हत्या करते हुवे सी सी टी बी कैमरों मे कैद हुवे थे ,इनमें असद सीसीटीवी फुटेज में गोली चलाता दिख रहा है। पुलिस ने इस काण्ड़ मे अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता के साथ जिन 5 बदमाशों पर इनाम घोषित किया था उसमें असद और गुलाम भी शामिल थे। यह बिदित है कि जब किसी पर इनाम घोषित हो गया, तो इसका अर्थ है कि उसको सामान्य तरीके से पकड़ने में पुलिस सफल नहीं हो रही है। पुलिस अतीक का पीछा पीछा कर रही थी और वह छिपता इधर -उधर भाग रहा था। उसके छिपने के कई ठिकाने पता चले लेकिन हर बार वह निकल गया था। झांसी में उसका मुठभेड़ होना बताता है कि वह लगातार अपनी जगह बदल रहा था। हालांकि जिंदा पकड़ में आता तो ज्यादा अच्छा होता क्योंकि उससे उमेपाल हत्याकांड का पूरा सच सामने लाने में मदद मिलती। साथ ही अतीक अहमद के जेल जाने के बाद उसके गैंग ने और क्या-क्या अपराध किए इसकी भी जानकारी मिल सकती थी। आज उसकी मृत्यु पार अफसोस प्रकट करने वाले लोग देश में न के बराबर होंगे। आप अपराध करते हो तो उस समय भले डर से आपके विरुद्ध कोई खड़ा नहीं हो लेकिन समाज में घृणा के पात्र होते हो। मरने के बाद भी लोगों के घृणा नहीं मिटती। आपकी दुर्दशा हो जाए तो ज्यादातर लोग यही कहते हैं कि इसने जैसा किया उसी का परिणाम भुगत रहा है। आज अतीक अहमद और उसके परिवार से बुरी हालत शायद ही किसी की होगी। स्वयं जेल में है, पत्नी फरार है ,एक बेटा मारा गया और जेल में है। एक मामले में उसे सजा हो चुकी है। भाई अलग जेल काट रहा है। एक ओर बेटे की मृत्यु और दूसरी ओर पुलिस की पूछताछ का उसे सामना करना है। इस दुर्दशा को देखकर निश्चय ही दूसरे माफिया- अपराधी भयभीत हुए होंगे तथा जिनके अंदर अपराधी बनने के लिए रोमांच भाव रहा होगा वह भी सोचेंगे कि हमारी भी दशा एक दिन ऐसी हो सकती है।

अपराध विना राजनैतिक संरक्षण के नही पनप सकता , लचर कानूनी ब्यवस्था का फायदा उठाकर अपराधी वेखौफ अपराधिक गतिविधियों को अंजाम दे रहे है । पर योगी उनपर लगाम लगाने के लिये मजबूत संकल्प के साथ आगे बढ रहे है ,देश मे महंगाई बेरोजगारी जैसे कई मुद्दे है पर इन सब मे कानून ब्यवस्था भी एक बड़ा मुद्दा है यह मुद्दा योगी सरकार को लोकप्रिय बना रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.