Loading

अल्मोड़ा, 8 दिसंबर सल्ट/ भिकियासैंन भ्रमण के दूसरे दिन आज जिलाधिकारी वंदना के नेतृत्व में प्रशासन की टीम द्वारा सर्वप्रथम निर्माणाधीन मिनी स्टेडियम मानिला का निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने स्टेडियम का निर्माण समय सीमा के अनुरूप न होने पर कार्यदाई संस्था सीएनडीएस के प्रति नाराजगी जताई , तथा अवशेष कार्य तथा धनराशि को ग्रामीण निर्माण विभाग को हस्तांतरित करने के निर्देश दिए। तत्पश्चात जिलाधिकारी ने राजकीय इंटर कॉलेज एवं माध्यमिक विद्यालय मानीला का निरीक्षण किया। यहां पर जिलाधिकारी ने इंटर कॉलेज के लिए नवनिर्मित भवनों का निरीक्षण किया तथा कार्यदाई संस्था ग्रामीण निर्माण विभाग के अधिकारियों को भवन के अवशेष रंग रोगन, तथा छोटे छोटे सभी कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी ने विद्यालय में गणित तथा विज्ञान की लैब का भी अवलोकन किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि सभी स्कूलों के ऐसे बच्चों का चयन करें, जो रसायन, भौतिक तथा स्पेस विज्ञान में विशेष रूचि रखते हों। उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चों को विषय विशेषज्ञों के माध्यम से आवश्यक प्रशिक्षण दिलाया जाए। इस के बाद जिलाधिकारी द्वारा राजकीय आदर्श प्राथमिक विद्यालय देवायल का निरीक्षण किया तथा स्कूल प्रबंधन की नियमित गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की। यहां जिलाधिकारी ने मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता की भी जांच की तथा बच्चों को साप्ताहिक मेन्यू के अनुसार भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने स्कूली बच्चों से वार्तालाप भी किया तथा शिक्षा में बच्चों के बेहतर प्रदर्शन करने पर स्कूल स्टाफ की प्रसंशा की। तत्पश्चात जिलाधिकारी द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र देवायल का निरीक्षण किया गया। यहां जिलाधिकारी ने इमरजेंसी रूम, पैथोलॉजी, मेडिसन कक्ष आदि का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अव्यवस्था सामने आने पर जिलाधिकारी ने संबंधितों को कार्यशैली सुधारने के की हिदायत दी। जिलाधिकारी ने कहा कि यदि एक महीने के भीतर अस्पताल की व्यवस्थाओं को सुधारा नहीं गया तो संबंधित चिकित्सकों के विरुद्ध कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी डॉक्टर एवं अन्य स्टाफ संपूर्ण कार्य अवधि के दौरान उपस्थित रहना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने अस्पताल में बायोमेट्रिक उपस्थित मशीन को भी संचालित करने के निर्देश दिए। यहां जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि अनुपयुक्त सामग्री की नीलामी कर उसका निस्तारण करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने कहा कि उपलब्ध संसाधनों का सदुपयोग करते हुए जनता को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराएं।
इसके बाद जिलाधिकारी ने ब्लॉक कार्यालय का निरीक्षण किया तथा यहां पर उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भेंट की तथा उपस्थित लोगों की समस्याओं को एक एक कर सुना तथा उसके निस्तारण के लिए मौके पर उपस्थित संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। यहां पर लोगों द्वारा पेयजल समस्या को मुख्य रूप से उठाया गया, जिस पर जिलाधिकारी ने जल संस्थान एवं जीवन निगम के अधिशासी अभियंता को प्रति शुक्रवार अनिवार्य रूप से सल्ट तहसील में उपस्थित रहने के निर्देश दिए साथ ही अन्य सभी रेखीय विभागों के अधिकारियों को भी सप्ताह में एक दिन अनिवार्य रूप से तहसील कार्यालय में उपस्थित रहने के निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी एवं खंड विकास अधिकारी को निर्देश दिए तहसील एवं ब्लॉक कार्यालय में सभी जिला स्तरीय अधिकारियों के नंबर चस्पा करें, जिससे लोगों को अधिकारियों से संपर्क करने में कोई असुविधा न हो। जिलाधिकारी ने कहा कि संबंधित अधिकारी जन समस्याओं का समाधान करें तथा संचालित योजनाओं का समय समय पर निरीक्षण कर योजनाओं के कार्यों में प्रगति सुनिश्चित करें।
तत्पश्चात जिलाधिकारी ने मोलेखाल बाजार में साफ सफाई से संबंधित व्यापार मंडल के साथ चर्चा की तथा कूड़ा निस्तारण करने की प्रक्रिया को जानकारी प्राप्त की ।
इस दौरान उपजिलाधिकारी सल्ट गौरव पांडे समेत अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.