Loading

रूद्रपुर। ट्रांजिट कैंप थाने की पुलिस ने एक साईबर ठग को गिरफ्तार कर लिया । युवक से 14 लाख रुपये की साइबर ठगी का आरोप है ।आरोपी कॉल सेंटर संचालक है पुलिस ने प्रेस कान्फेन्स मे खुलाशा करते हुवे बताया कि यह ठग निवेशक सलाहकार बन कर लोगों को झांसे में लेता था तथा भारी रकम की धोखाधड़ी करता है। पुलिस ने युवक के कब्जे से महंगा मोबाइल फोन, कई सिम कार्ड और डेबिट कार्ड मबरामद किये हैं।
इस बात का खुलाशा करके हुवे कुमाऊं साइबर थाना प्रभारी ललित मोहन जोशी ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया कि 11 फरवरी 2023 को ट्रांजिट कैंप निवासी समीर सेन के साथ 14 लाख रुपये की साइबर ठगी हुई थी। घटना से पहले समीर को एक व्यक्ति ने फोन कर खुद को निवेश सलाहकार बताया था। इसके बाद व्यक्ति ने उनके निवेशकों के बारे में पूछताछ की और अधिक मुनाफे का लालच देकर अपने गेन्स मोर ब्रोकिंग एप्लीकेशन में रुपये लगाने का निर्देश दिया। इसके बाद एप्लीकेशन खराब होने का बहाना बना कर उसने पीड़ित का डीमैट खाता खुलवाया और 14 लाख की धोखाधड़ी कर दी। पुलिस ने केस दर्ज कर मोबाइल नंबर, ई-मेल लिंक सहित कई ऑनलाइन फुटप्रिंट से मामले की गहनता से जांच की।

इस मामले में पुलिस ने कई राज्यों मे दबिश दी मुख्य रूप से राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली समेत कई लोगों से पूछताछ की और जिसके बाद भगीरथपुरा, बाणगंगा इंदौर(मध्य प्रदेश) निवासी विजय चावला को चिह्नित किया। एक हफ्ते पहले पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की तो उसे इस बात की भनक लग गई और वह अपनी लोकेशन बदलता रहा। पुलिस ने इंदौर, ग्वालियर, मथुरा, नोएडा, सहित कई जगहों पर उसका पीछा किया और बाद में हरिद्वार से उसे दबोचा। इस दौरान पुलिस ने करीब 2,700 किलोमीटर तकउसका पीछा किया। पूछताछ में उसने फर्जी ई-मेल आईडी के माध्यम ठगी करने की बात कबूली। एसएसपी एसटीएफ आयुष अग्रवाल ने बताया कि आरोपी नोएडा में अपना एक कॉल सेंटर संचालित करता है लेकिन पुलिस की दबिश होने की वजह से उसने बंद कर दिया है। आरोपी को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है।

Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.