38 total views

उत्तरकाशी के सिलक्यारा मे धंसी सुरंग में फंसे 40 लोगों को बाहर निकालने के लिए सरकारी स्तर पर हरसंम्भव बचाव और रहत का कार्य जारी है। इस घटना पर ली एम लगातार नजर बनाये हुवे है । उम्होंमे एक बार फिर उम्मीग जताई है कि लभी मजदूरों को सकुशल बाहर निकाल लिया जायेगा ,।हादसे के बाद एक अमेरिकी सासंद ने भी सरकार से मदद की पेशकश की है ,सिलक्यारा सुरंग में इस बीच नई और शक्तिशाली ऑगर मशीन ने शुक्रवार सुबह तक 21 मीटर मलबे को साफ कर दिया है अभी भी सुरंग में 45 से 60 मीटर तक मलबा जमा है इस मलुवे को बाहर निकालमे रे लिये इसमें ड्रिलिंग के जरिए मलबे में रास्ता बनाते हुए उसमें 800 मिमी और 900 मिमी व्यास के कई बड़े पाइपो को एक के बाद एक इस तरह डाला जाएगा कि मलबे के एक ओर से दूसरी ओर तक एक वैकल्पिक सुरंग बना वी जाए ताकि श्रमिक उसके माध्यम से बाहर आ सकें । इससे पहले, मंगलवार देर रात एक छोटी ऑगर मशीन से मलबे में ड्रिलिंग शुरू की गयी थी लेकिन इस दौरान भूस्खलन होने से काम को बीच में रोकना पड़ा था। बाद में वह ऑगर मशीन भी खराब हो गयी थी। इस काम को आगे बढाने में भारतीय वायुसेना के C-130 हरक्यूलिस के जरिए 25 टन वजनी बड़ी, अत्याधुनिक और शक्तिशाली अमेरिकी ऑगर मशीन दो हिस्सों में दिल्ली से उत्तरकाशी पहुंचाई गयी जिससे बृहस्पतिवार को दोबारा ड्रिलिंग शुरू की गयी। अधिकारियों के अनुसार सुरंग में फंसे श्रमिकों को लगातार खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। उन्हें ऑक्सीजन, बिजली, दवाइयां और पानी भी पाइप के उन तक पहुंचायई जा रही है। रैस्क्यु आपरेशन के दौरान श्रमिकों से अधिकारियों के साथ साथ बीच-बीच में उनकी उनके परिजनों से भी बात कराई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.