35 total views

रामनगर 31दिसम्बर जंगली जानवरों खास तौर पर बाघ के द्वारा ग्रामीणों पर लगातार हो हमलों के खिलाफ जन आंदोलन कर रहे लोगों को गिरफ्तार करने की भाकपा माले ने कड़ी निंदा की है। भा क पा माले के जिला सचिव कैलाश पाण्ड़ेय ने कहा है कि जनता की मांग को मानने के बजाय भाजपा सरकार द्वारा आंदोलनकारियों का दमन करना शर्मनाक है। भाकपा माले जंगली जानवरों-बंदरों से इंसानों, मवेशियों व फसलों को सुरक्षा देने;जंगली जानवरों के हमले में मृतक को 25 लाख, घायल को 10 लाख रुपए मुआवजा व सरकारी खर्च पर संपूर्ण इलाज की गारंटी देने की रामनगर के आंदोलनकारियों की मांग का समर्थन करती है।उन्होंने कहा कि
जनता के शांतिपूर्ण आंदोलन पर धारा 144 लागू करना और सीआरपीसी की धारा 107/16 के तहत गिरफ्तार करना बेहद अलोकतांत्रिक और गलत है।

माले गिरफ्तार वरिष्ठ आंदोलनकारी प्रभात ध्यानी, संघर्ष समिति के संयोजक ललित उप्रेती, आइसा रामनगर अध्यक्ष सुमित, कला संकाय प्रतिनिधि प्राची बंगारी, आइसा नेता हिमानी, समाजवादी लोक मंच के मुनीश कुमार समेत सभी लोगों को तत्काल रिहा करने और मुकदमा वापस लेने की मांग करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.