91 total views

उत्तराखण्ड मे चार धाम यात्रा आदि राल से एक रोमांचकारी अनुभव है । देवभूमि रा इतिहास कई हौरव गाथाओं से जुड़ा है । पर उत्तराखण्ड सरकार को इन दिनों एक नया हीरों सुशान्त राजपूत मिल गया है । पर्यटन मन्त्री सतपाल महाराज एक धर्मगुरु , व आध्यात्मिक नेता बै । प्रदेश कू जनता ने उन्हें अपनी चर्चाओमे सी एम की कतार मे भी खड़ा किया । पर वे उत्तराखण्ड की धार्मिक यात्राओं को पर्यटन मे बदलना चाहते है । अभी कुछ दिन पहले पूर्व अभिनेता शुशान्त सिंह राजपूत जिन्हे नशे का आदि बताया गया । व आत्म हत्या के कारण सुर्खियों मे आये उनके नाम पर सैल्पी पाइन्ट बनाने की घोषणा की है सुशान्त राजपूत का उत्तरीखण्ड़ की लोक संस्कृति सभ्यता व राजनीति मे कोई योगदान नही है । राज्य सरकार उनके नीम पर पवित्र तीर्थ स्थलों मे सैल्फी पाइन्ट क्यों बनाना चाहती है । इस फैसले पर लोग अब सवीस खड़ा कर रह् है । राज्य मे हजारो ऐसे चरित्र है जो युवाओं के प्रेरणा स्रोत है । उनके नाम से सैल्फी पाईन्ट क्यों नही यह सवाल चर्चाओं का विषय बन गया है ।